Monday, 31 July 2017

कैसे पाएं सफलता? 3 ज़रूरी बातें! How to achieve success.


 3 Success Tips in Hindi

बहुत से लोगों ने successful होने के बहुत से तरीके बताये हैं. इस subject को लेकर आपने ढेर सारी किताबें पढ़ी हैं, कई blogs पढ़ें हैं और काफी लोगों ने success seminars भी attend किये हैं. And the good thing is कि कुछ लोगों ने इन चीजों का फायदा उठा कर अपनी life को successful बनाया भी है.
Success Tips In Hindiपर ये भी एक सच है कि इन तमाम चीजों को करने के बावजूद अधिकतर लोग सफलता नही पा पाते! शायद बहुत सारे tips या inputs मिलने की वजह से वे इस पूरे process को बहुत complex समझ लेते हैं और उन्हें clear नहीं हो पाता कि actually सफल होने के लिए करना क्या है ? इसीलिए आज मैं आपके साथ Successful होने का एक बड़ा ही straight forward और effective तरीका share कर रहा हूँ.

तो आइये जानते हैं उन तीन ज़रूरी बातों को जो हमें सफलता दिला सकती हैं :

पहली बात:  1 line का लक्ष्य बनाएं

सफलता क्या है?
अपने लक्ष्य को पाना ही सफलता है. इसलिए अगर सफल होना है तो पहले आपको अपना एक लक्ष्य निर्धारित करना होगा.
5 साल पहले जब मैंने AKC शुरू किया था तभी मैंने तय कर लिया था कि एक दिन मैं अच्छीखबर पर “१ लाख पेज व्यूज पर डे” का goal achieve करूँगा और उसी को अपनी सफलता मानूंगा, and it happened!
सफलता पाने के लिए सबसे पहला step यही है की आप clearly define करिये कि आपके लिए सफलता का मतलब क्या है ?
कई बार लोग कहते हैं, “ I want to be a successful person?” पर उनके दिमाग में इस बात की clarity नहीं होती कि successful person होने का मतलब क्या है ?
हो सकता है आपके लिए इसका मतलब हो – “ एक अच्छा सा घर…अच्छी सी नौकरी…अच्छी सी family…” but ये success की बहुत generalized definition हुई…. कौन जानता है किसके लिए क्या “अच्छा ” है. इसलिए आप अपने लिए Success की एक clear cut and concise definition तैयार करिए…ऐसी definition जिसे आप बार -बार अपने दिमाग में repeat कर सकें, जिसे बोलते ही आपकी आँखों में चमक आ जाये जो आपको एक challenge के साथ- साथ एक achievement का भी एहसास करा सके.

For example:
5 साल पहले मेरे लिए ये definition थी —“ 1 lac page views per day”, 1 lac page views achieve करने से पहले ये छोटी सी line मैं हज़ारों बार लिख, सोच और महसूस कर चुका था और जब मैंने इसे पा लिया है तो अब अपने अगले लक्ष्य की और बढ़ रहा हूँ…वो क्या है इसके बारे में फिर कभी बात होगी. 🙂
आपको भी अपने लिए success को एक line में define करना होगा…ये कुछ भी हो सकता है —
For example: अगर Vijay Kumar को IAS officer बनना  है तो वो एक लाइन में अपना गोल बना सकता है –“ VIJAY KUMAR IAS OFFICER”
अगर उसे IIT में जाना है….” VIJAY KUMAR IITIAN”
अगर किसी को बहुत बड़ा Dancer बनना है -“दिल्ली का नंबर १ डांसर” etc.
Goal define करते समय इन बातों का ध्यान रखें :

Goal बड़ा बनाएं! कितना बड़ा ? उतना बड़ा जितना आप सोच सकते हैं और जिसे आप दिलो दिमाग से accept कर सकते हैं की हाँ अगर आप अपनी पूरी ताकत झोंक दें तो आप उस लक्ष्य को हासिल कर सकते हैं!
For instance: कोई लक्ष्य बना सकता है “ मुझे दुनिया का सबसे अमीर आदमी बनना है ” अगर वो इसे दिलो-जान से believe कर पा रहा है तो well and good लेकिन अगर नहीं कर पा रहा है तो उससे बेहतर होगा, “मुझे 10 करोड़ रूपये कमाने हैं ”
What I mean to say is कि आपका लक्ष्य आपको motivate करने वाला हो…वो ऐसा न हो कि उसे बोलते ही अंदर से आवाज़ आये…..” ये कहाँ हो पायेगा…” बल्कि उसे बोलते ही आप charged up महसूस करें…कि हाँ यही वो चीज है जो मुझे किसी भी कीमत पर चाहिए….YES यही करना है मुझे!
एक बात और जो ध्यान देने वाली है कि आपको “Goal” बनाना है “ Goals” नहीं. हो सकता है कुछ लोग इस बात से agree न करें पर मेरा मानना है की एक समय में आप सिर्फ और सिर्फ एक GOAL बनाइये. ख़ास तौर से वो लोग जो पहली बार किसी बड़ी सफलता का स्वाद चखना चाहते हैं…उन्हें goals के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए और सिर्फ और सिर्फ एक goal बनाना चाहिए. अगर आप अलग-अलग गोल्स को लेकर दुविधा में हैं तो उस एक गोल को चुनें जो आपकी life पर सबसे अधिक positive impact डाले, और फिर अपनी पूरी उर्जा उसी एक गोल को पाने में लगा दें!

दूसरी बात: Focussed Hard Work करें

Goal बनाने के बाद दूसरा step है उस Goal पर focussed रहना और उसे achieve करने के लिए कड़ी मेहनत करना.
किसी चीज पर focussed रहने का क्या मतलब है ?
इस बात को समझाने के लिए मैं हमेशा Swami Vivekanand जी की कही ये बात quote करता हूँ –
एक idea लो. उस idea को अपनी life बना लो – उसके बारे में सोचो उसके सपने देखो, उस idea को जियो. अपने दिमाग, muscles, nerves, शरीर के हर हिस्से को उस आईडिया में डूब जाने दो, और बाकी सभी ideas को किनारे रख दो. यही सफल होने का तरीका है, यही वो तरीका है जिससे महान लोग निर्मित होते हैं.
Friends, ज्यादातर लोग life में इसलिए असलफल नही रह जाते क्योंकि उनके अंदर सफल होने की काबिलियत नहीं होती बल्कि वे इसलिए असफल हो जाते हैं क्योंकि वे लम्बे समय तक एक ही लक्ष्य पर अपना ध्यान नहीं लगा पाते.
अगर आपको सफल होना है तो आपको Focussed हो कर अपने goals का पीछा करना होगा…रास्ते में तमाम नयी opportunities आपको distract करने की कोशिश करेंगी…कोई business plan समझायेगा, तो कोई आपको जल्दी से अमीर बनने का रास्ता दिखायेगा … तो कोई अच्छी नौकरी का offer देगा….पर आपको इन सबको ठुकराना है.
जब मैं AKC पे काम कर रहा था तो इस बीच मैंने कई दूसरी opportunities छोड़ीं… which included a very good job offer, विदेश जाने का मौका, etc. हो सकता है आपको लगे कि मेरे लिए ये सब miss करना कठिन रहा होगा…but frankly ये बहुत आसान था….जब आप अपने लक्ष्य को लेकर passionate होते हैं तो बाकि सब बेकार लगता है और उन्हें छोड़ना या हाथ से जाने देना बहुत आसान होता है!
दोस्तों, चाहे जितनी भी distractions आ जाएं आपको सिर्फ और सिर्फ अपना लक्ष्य प्राप्त करना है और कुछ नहीं! फिर दूसरी चीजें चाहे कितनी भी attractive हों, उसमे कितना ही पैसा हो…कितनी ही शौहरत हो….नहीं चाहिए….मुझे अपनी life में सिर्फ और सिर्फ एक चीज चाहिए……मेरा लक्ष्य और कुछ नहीं!
और ये लक्ष्य मिलेगा कड़ी मेहनत से…. बहुत से लोग SMART work की बात करते हैं…but don’t confuse it with Easy Work…. SMART work actually means…कि आप Hard work smartly करते हैं.
Light bulb के inventor Edison ने सौ साल पहले कहा था —
There is no substitute for hard work. / कठोर परिश्रम का कोई विकल्प नहीं है.
और यकीन जानिये अभी तक इसका कोई विकल्प नहीं मिल पाया है!
इसलिए अगर आपको अपना लक्ष्य प्राप्त करना है तो कड़ी मेहनत करनी होगी…लगातार…हर रोज…जब तक आपका लक्ष्य न मिल जाए!
आपको time wasters को किनारे करना होगा…mobile switch off करना होगा… facebook signout करना होगा, whatsapp disable करना होगा…दोस्तों को… family members को “ना” करना सीखना होगा…आपको सुबह जल्दी उठना होगा या रात को देर तक काम करना होगा…आपको अपना हर लम्हा लक्ष्य को पाने में लगाना होगा and believe me जब आप ऐसा करेंगे तो बड़े से बड़ा लक्ष्य भी आपको achievable लगने लगेगा!
आज तक जितने भी achievers हुए हैं-
महात्मा गांधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक
अमिताभ बच्चन से लेकर सचिन तेंदुलकर तक
सानिया से लेकर साइना तक….
हर किसी ने बड़ी मेहनत की है हर किसी ने कड़ी मेहनत की है….success की लड़ाई में कड़ी मेहनत ही आपका ब्रह्मास्त्र है..इसकी ताकत के आगे पहाड़ों तक को झुकना पड़ता है….इसका इस्तेमाल करिये…सारे challenges…सारी अड़चने… सारी बाधाओं को अपने सामने झुका  दीजिये और सफलता को अपनी मुट्ठी में भर लीजिये!

तीसरी और आखिरी बात: Enthusiasm बनाये रखें

आप अपने goal को लेकर clear हैं…आप focussed hard work भी कर रहे हैं पर एक चीज और है जो success पाने के लिए मुझे बेहद ज़रूरी लगती है…
और वो चीज है एन्थुजीऐजम…यानि जोश या उत्साह.
यहाँ जोश का मतलब नाचना – गाना या super excited होकर अपनी emotions show करना नहीं है…जोश का मतलब internally charged up होने से है…
इसका मतलब अपने goal को लेकर अंदर से अच्छा feel करने से है…अपने efforts को लेकर उत्साहित रहने से है…जब आदमी जोश में काम कर रहा होता है तो वो extra efforts डालने के लिए तैयार रहता है…वो अपने लक्ष्य को पाने के लिए अनदेखे रास्तों पर चलने को तैयार रहता है, वो सिर्फ conventional wisdom पर नही चलता बल्कि नए innovative तरीकों को अपनाने के लिए भी ready रहता है…उसका दिमाग सोचता रहता है कि मैं कैसे अपने mission को possible बना सकता हूँ… मैं कैसे अपने dreams को reality में convert कर सकता हूँ!
Ralph Waldo Emerson ने कहा है-
Nothing great was ever achieved without enthusiasm. / बिना उत्साह के कभी कोई महान उपलब्धि हासिल नहीं की गयी है.
इसलिए अपने लक्ष्य को लेकर अक्सर उत्साहित रहे.. अक्सर इसलिए क्योंकि हमेशा ऐसा होना practical नहीं है, ना चाहते हुए भी situations circumstances आपका एनर्जी लेवल, आपका मोराल डाउन कर सकते हैं… that’s ok… ये सबके साथ होता है. बस ज़रूरत ये है कि आप फिर से उसी उत्साह उसी मोराल को वापस पा लें…और ऐसा करना तब थोड़ा आसान होगा जब आप अपना लक्ष्य ये देखकर नहीं बनाएं कि और लोग आपसे क्या चाहते हैं बल्कि ये सोचकर बनाएं कि आप खुद से अपने लिए क्या चाहते हैं!
इसके अलावा अपना उत्साह बरकरार रखने के लिए आप motivational booksvideos और blogs का सहारा भी ले सकते हैं…आप कुछ mini-milestones decide कर सकते हैं और उसे अचीव करने पर celebrate कर सकते हैं…जो भी करें… जैसे भी करें पर अपना enthusiasm बनाये रखें… ऐसा करना बिना थके आपको आपके लक्ष्य के करीब पहुंचा देगा!
अंत में एक और चीज जो मैं गोल के बारे में कहना चाहता हूँ, वो ये कि अकसर Goal को Time Bound बनाने की सलाह दी जाती है, बहुत से cases में ये सही भी है…पर मुझे लगता है कि life के सबसे ज़रूरी goals को समय से नहीं बाँधा जाना चाहिए…बल्कि उनका रिश्ता आपके उत्साह के साथ होना चाहिए!
ये मायने नहीं रखता की लक्ष्य का पीछा करते हुए 1 साल बीता…दो साल बीता या दस साल बीता…अगर उत्साह ज़िंदा है तो लक्ष्य को पाने की मेरी लड़ाई ज़िंदा है…..और जब तक मेरी लड़ाई ज़िंदा है तब तक मैं जीत सकता हूँ ….
मैं रुकुंगा नहीं मैं झुकूंगा नहीं…
लड़खड़ाउं-गिरुं पर थमूंगा नहीं…
है जोश मुझमें मैं चलता रहूँगा…
जो है लक्ष्य मेरा मैं पाकर रहूँगा…
All the best!

1 comment: