Monday, 31 July 2017

एक MNC जॉब छोड़ कर फुल टाइम ब्लॉगर बनने की कहानी.... How I became a full time blogger





आज  8 July है  , आज  का  दिन  मेरे  लिए  बहुत  ख़ास  है . इसके  ख़ास  होने  की  दो  वजहें  हैं :
पहली , आज  मेरा  Birthday है .

दूसरी , और   बड़ी  वजह … आज  मैं  अपनी  नौकरी  को  अलविदा  कह  रहा  हूँ .
लम्बी छलांग ...
A big leap…
जो  नहीं  जानते  हैं  उनके  लिए  बता  दूँ , कि  AchhiKhabar.Com (AKC) को  run  करने  के  साथ -साथ  मैं   Noida में एक American IT company  में बतौर Business Analyst job भी करता  हूँ , और  आज  8 July को  मेरा  Last Working Day है , और  इसका  ये  मतलब  भी  नहीं  कि  मैं  अपनी  जॉब  switch कर  रहा  हूँ , और  अब  दूसरी  company में  काम  करने  लगूंगा … नहीं, आज  तो  मेरे  corporate career का आखिरी  दिन  है … यानी  आज  के  बाद  मुझे  office नहीं  जाना  होगा , किसी  को  report नहीं  करना  होगा … अब  मैं  आज़ाद  हूँ … अब  मैं  पूरी  तरह  से  अपने  interests को  pursue कर  पाउँगा … अपना  पूरा  समय  सिर्फ  उन  चीजों  को  दे  पाउँगा  जो मेरे  दिल के करीब  हैं , जिन्हे  मैं  सचमुच  करना  चाहता  हूँ .
आज  का  दिन  मेरी  आज़ाद  ज़िन्दगी  का  पहला  दिन  है , मैं  इसे  ईश्वर  द्वारा  दिए गए  एक  नए  जन्म   के  रूप  में  देखता  हूँ …, जिसे  मैं  पूरी  तरह  जनसेवा  में  लगा  देना  चाहता  हूँ . Of course इसकी  शुरुआत  माता -पिता  की  सेवा  से  होती  है  और  इसलिए  अब  मैं  Delhi से  अपने  home town Gorakhpur शिफ्ट  हो  रहा  हूँ .
एक  MNC की  जॉब  छोड़  कर  full time blogger बनना  एक  बड़ा  कदम  है , इसमें  थोड़ा  risk भी  involved है  , पर  मैं  ये  risk उठाना  चाहता  हूँ … मैंने  पहले  भी  कहा  है  और  आज  भी  दोहराता  हूँ … मैं  इस  दुःख  के  साथ  नहीं  मरना  चाहता  कि  मैंने  जो  चाहा  वो  किया  नहीं …मैं  इस  ख़ुशी  के  साथ  जीना  चाहता  हूँ  कि  जो  मैं  चाहता  हूँ  वो  मैं  कर  रहा  हूँ … I hope इस decision में  आप  मेरे  साथ  हैं  और  आपकी  best wishes मुझे  मिलती  रहेंगी .
कई  लोग  mails और  comments के  through मुझसे  मेरी  blogging journey के  बारे  में  पूछते  रहते  हैं … इसे  बताने  के  लिए शायद आज का दिन ही सबसे अच्छा है  … तो  आज  मैं  आपको  अपनी  कहानी  बताता  हूँ .
मैंने  AKC की  शुरुआत  October 2010 में  Blogspot पे  की  थी . AKC से  पहले  मैं  job के  साथ -साथ  कुछ  और  चीजें  भी  try कर  चुका  था , जैसे  की  NGO चलाना , एक consultancy run करना , etc.
 पर  problem ये  थी  कि  मैंने  अभी  तक  कुछ  concrete नहीं  किया  था … बस  छोटा -मोटा  काम  ही  कर  पाया  था . इसलिए  AKC शुरू  करते  वक़्त  मैंने  खुद  से  एक  वादा  किया  था  कि  , “मैं  अपने  इस  काम  को  बड़ा  बनाऊंगा..बहुत  बड़ा … कुछ  भी  हो  जाए  मैं  इसे  बीच  में  नहीं  छोड़ूंगा  , फिर  चाहे  इसमें  कितना ही समय  क्यों  न  लग  जाए … एक  दिन  मैं  इसमें  सफल  हो  कर  दिखाऊंगा ”
मैंने  blogging शुरू  कर  दी …. और  मेरा  मन  इस  काम में  पूरी  तरह  रम  गया … मैं  दिन  रात  इसी  बारे  में  सोचता  कि  कोई  post डालनी   है  … कुछ  लिखना  है  … कुछ  ऐसा  create करना  है  जिसे  पढ़कर  लोगों  को  सच  में   फायदा  हो .
दोस्तों ,  मैंने  हमेशा  , AKC को  एक  ऐसे  platform के  रूप  में  देखा  है  जो  लोगों  की  समस्याएं  सुलझाये  , उनके  अंदर  एक  हौंसला  पैदा   करे .. जिसका  content सचमुच  rich  हो  और  किसी  न  किसी  तरह  लोगों  की  मदद  करता  हो . Definitely मैंने  इससे  पैसा  कमाने  के  बारे  में  भी  सोचा  था , पर  मेरा  पहला  मकसद  readers को  हिंदी  में  quality content provide करना  था …और  आज  भी  वही  है .

अब  मेरे  पास  बहुत  से  लोगों  के  mail आते  हैं  जो  कहते हैं  की  उन्हें भी  blogging करनी  है  , पर  वो अपने  content के  बारे  में  बात  नहीं  करते  वे  पूछते  हैं  कि कितनी  जल्दी  और  कितना  पैसा  कमाया  जा  सकता  है … I think, उन्हें  भी content को  पहले  और  पैसे  को  बाद  में  रखना  चाहिए .
खैर  … आगे  बढ़ते  हैं …
जब  मैंने  AKC की  शुरुआत  की  तो  मेरी   job HCL , चेन्नई में  चल  रही  थी  , मैं  अपनी  scooty से  हर  रोज  लगभग  22 km दूर  , वेलाचेरी  से   शोलिंगनल्लूर  अपने  office जाया  करता  था … Office जाते  वक़्त , office से  आते  वक़्त  और  office में  रहते  हुए  भी  मेरे  दिमाग  में  बस  AKC ही  चलता  रहता  था … मैं  सोचता  … कैसे  अच्छी -अच्छी  posts डाली  जाएं …कैसे  अपना  traffic बढ़ाया  जाए … कई  बार  मैं  इस  चक्कर  में  रहता  कि  office से  जल्दी  से  जल्दी  निकलकर घर भागा जाए  और  AKC पे  काम  किया  जाए ….
जब  आप  किसी  चीज  पर  पूरी  तरह  focused हो  जाते  हैं  तो  अपने  आप  आपको  नए  रास्ते  दिखने  लगते  हैं … AKC शुरू  करने  के  लगभग  6 महीने  बाद  मेरी  नज़र  Brainy Quotes site पर  पड़ी  , दिमाग  में  एक बात  आई … इस  site को  कितने  लोग  visit करते  होंगे …. मैंने तुरंत  उसकी  Alexa rank check की , ये  World की  सबसे  अधिक  देखे जाने   वाली  sites में से एक थी . मैंने  सोचा  ,इसका  ये  मतलब  हुआ  कि  बहुत  से  लोग  Quotes पढ़ना  चाहते  हैं , तभी  तो ये  site इतनी  ज्यादा  popular है . फिर  क्या  था  , मैंने  हिंदी में  Quotes translate करना  शुरू  कर  दिए … और  आज  AKC Hindi Quotes की  no. 1 site है .
कुछ  ऐसा  ही  हुआ  जब  मैंने हिंदी कहानियां  post करना  शुरू  कीं , आज  की  तारिख  में  AKC पर  194 कहानियां  हैं , और  मुझे  लगता  है  किसी  भी  भाषा  में  इतनी  अच्छी  कहानियों  का  एक  साथ  इतना  बड़ा  संग्रह  शायद ही कहीं और हो .
आप  जो  भी  सोचिये  बड़ा  सोचिये … जो  भी  करिये  बड़ा  करिये . और  याद  रखिये  इसमें  समय  लगता  है   इसलिए  अपना  धैर्य  मत  खोइए …इतना याद रखिये जिसके पास धैर्य है वो जो चाहे वो पा सकता है।
यहाँ  एक  और  बेहद  ज़रूरी  बात  बताना  चाहूंगा , जब  मैंने  AKC शुरू  की  थी  तब  सोचा  भी  नहीं  था कि कभी  इसपर  Quotes या  stories डालूँगा  और  आज  यही चीजें  इस ब्लॉग पर  सबसे  ज्यादा  पढ़े  जाते  हैं . आप  शुरू  में  ही  हर  एक  चीज  plan नहीं  कर  सकते , आप  चाहें  न  चाहें  आगे  चल  कर  चीजें  बदल  जाती  हैं , इसलिए  बदलाव  के  लिए  हमेशा  तैयार  रहिये , समय  के  साथ  खुद  को  बदलिये .

AKC में  एक  बड़ा  बदलाव  तब  आया  जब  August 2011 में  मैं  blogger से  WordPress पर  shift कर  गया . कारण  ये  था  कि  WordPress blogging के  लिए  सबसे  अच्छा माना जाता  है  और  बहुत  से  successful bloggers ने  ऐसा  ही  किया  था … इसलिए  मैंने  उनको  follow करना  ही  ठीक  समझा . मैंने  बिना  किसी  external help के  बस  net पे  articles पढ़ -पढ़  कर  ये  कर  लिया …  i  am not too much into technical things; इसलिए  इसमें  थोड़ी  दिक्कत  ज़रूर  आई … October और  November 2010 की  पोस्ट्स  भी  इस  process में  कहीं  मिस  हो  गयीं … इसलिए  जब  आप  All Posts में  देखेंगे  तो  सबसे  पहली  post December 2010 की  दिखेगी  जबकि  मैंने  blogging October से  ही  शुरू  कर  दी  थी .
Shift करने  का  decision बड़ा  था … पर  मैंने  इसमें  देर  नहीं  लगायी … क्योंकि  AKC को  मैंने  कभी  short term में  नहीं  सोचा , ये  मेरी  बाकी  की  life का  एक  बड़ा  हिस्सा  होने  वाला  था  इसलिए  इसे  बेहतर  बनाने  वाली  कोई  भी  ज़रूरी  चीज  टालना  नहीं  चाहता  था … और  मैंने  ये  बड़ा  कदम  उठा  लिया , and I am happy that I did it.
AKC शुरू  करने  के  3-4 महीने  बाद  मेरा  दिमाग  एक  और  ज़रूरी  बात  पर  गया , वो  थी  इस  बात  का  एहसास  होना  कि  लोग  search कैसे  करते  हैं . मुझे  realize हुआ  कि  भले  लोग  पढ़ना  Hindi में  चाहते  हैं  पर  उसे  search English में  ही  करते  हैं ,  for example, अगर  किसी  को  महात्मा गांधी  के  बारे  में  पढ़ना  है  तो  most probably वो  लिखेगा …. “Mahatma Gandhi In Hindi” या  ” About Mahatma Gandhi in Hindi” . ये  एक  एहम  realization था . और  मुझे  लगता  है  AKC के  popular होने  में  ये  सबसे  बड़ी  वजहों  में  से  एक  है .
इसका  एहसास  होते  ही  मैंने  अपनी  हर  post में  “In-Hindi:” keyword use  करना  शुरू  कर  दिया , और  जल्द  ही  AKC के  articles search results में  पहले  page पर  आने  लगे .
AKC Page Views का  एक  snapshot आपको  site की  growth का  idea दे  देगा :
Bar Chart in Hindi
Blogging Income
Blog शुरू  करने  के एक  साल  बाद  तक  मैंने  AKC से  1 रुपया  भी  नहीं  कमाया  था . मुझे  याद  नहीं  मेरा  पहला  ad network कौन सा  था , पर  इतना  ज़रूर  याद  है  कि  जब  उस  network से  पहली  बार  सिस्टम  में  50 पैसे  की  income show हुई  थी तो  मैंने  अपनी  माँ  को  फ़ोन  किया  था  और  बताया  था  कि  आज  मैंने  अच्छीखबर  से  50 पैसे  कमाए …. और  तब  माँ  मेरे  ऊपर  हंसी  नहीं  थीं ….बल्कि  उन्होंने  मुझे  encourage किया कि आज  50 पैसा  है … कल  5 हज़ार  और  फिर  50 हज़ार  हो  जाएगा … और  उनके  आशीर्वाद  से  ऐसा  होता  गया ..
Friends, AKC का  पहला  major ad network था  Komli Media, उसके  बाद  Ozone Media जिसका  नाम  अब  बदलकर  adadyn हो  गया  है …and finally जब  Google Adsense ने  Hindi को  approve कर  दिया  तो  यही  मेरा  major ad network बन  गया . इसके  आलावा  मेरे  पास  कुछ और बड़े  ad networks का  भी  approval है  , जिनका  use कर  के  मैं  अपनी  income बढ़ा  सकता हूँ ,  but for the time being मैं  सिर्फ  adsense ही  use  कर  रहा  हूँ .
At the moment मैं AKC से 4 तरीकों से पैसे कमाता हूँ , Adsense, Ebooks ,Flipkart Affiliate Program, and direct ads. Adsense generates 90%  of the whole income. Big thanks to Google Adsense , जिसके बिना job quit करना पॉसिबल नहीं हो पाता.
I know, बहुत  से  लोग  income के  exact figures जानना  चाहते  हैं  , पर  मैं  अपनी  blogging income share करने  में  comfortable नहीं  हूँ .. However, इतना  कहूँगा  कि  ये  income मेरी  MNC job से  कहीं अच्छी है .
What’s next?
जॉब  से  freedom मिलना  अच्छा  है  पर  इसका  कोई  मतलब  नहीं  रह  जायेगा  अगर  मैं  अपने  समय  का  सही  उपयोग  न  कर  पाऊं . मेरी कोशिश  होगी  की  मैं  खुद  को  एक  बेहतर  इंसान  बनाऊं  …मैं  जो  लिखता  हूँ , जिस  तरह  लिखता  हूँ  उसे  बेहतर  करने  के  लिए  मुझे  खुद  को  बेहतर  करना  ज़रूरी  है  इसलिए  मैं  इस  समय  का  एक  बड़ा  हिस्सा  self-improvement पर  लगाउँगा . जिसमे  , योग  करना , नयी -नयी  किताबें  पढ़ना , अच्छे  videos देखना शामिल होगा। आने वाले समय में मेरी इन्वॉल्वमेंट सोशल वर्क में भी बढ़ती जाएगी और आप मुझसे एक नए ब्लॉग  की भी उम्मीद कर सकते हैं।
Gratitude
AKC की  journey में  कुछ  लोगों  का  बहुत  बड़ा  contribution रहा  है . सबसे  पहले  मैं भगवान एवं अपने mother-father और सभी  family members को thanks कहना  चाहूंगा  and specially अपनी wife , Padmaja  का  नाम  लेना  चाहूंगा … मेरे  काम  की  दीवानगी  के  चलते पद्मजा ने  बहुत  कुछ  sacrifice किया  है .. कितने  ही  weekends , जब  हम  घूमने  जा  सकते  थे …movie देख  सकते  थे …. मैं  अपने  काम  में  ही  लगा  रहा …. उम्मीद करता हूँ अब  मैं  इन  सबके  लिए  समय  निकाल  पाउँगा . उनका  सबसे  बड़ा  role  तब  आता  है  जब  मैं  किसी  वजह  से  परेशान  या  दुखी  होता  हूँ , ऐसे  मौकों  पर  उनका  साथ  मुझे  हिम्मत  देता  है  और  टेंशन ख़त्म करने  में बहुत helpful  होता  है। A BIG thanks to her.
Then, मैं  thanks करना  चाहूंगा  अपने  बचपन  के  दोस्त  Chandan को  ( आज  उनका  भी  B’day है :)) जिन्होंने  मुझे  SEO के  fundamentals समझाए  और  आज  भी  मुझे  कई  technical बातें बताते रहते हैं  . और  इन  सबसे  ज्यादा  , he is a wonderful human being, और  किसी  ऐसे  इंसान का  आपके  साथ  होना  बहुत  luck और  गर्व  की बात  है .
दोस्तों ,  आज  AKC एक  popular site है  और  बहुत  से  लोग  अपने  articles इसपर  share करना चाहते  हैं  , पर  तब  जब इसे  अधिक लोग  नहीं  जानते  थे , तभी  से  Anita ma’am voluntarily अपने  articles share करती  आ  रही  हैं . विभिन्न  विषयों  पर  लिखे  उनके  50 से  अधिक  articles से  लाखों  लोगों  को  फायदा  हो  चुका  है . मैं  तहे  दिल  से  उनका  शुक्रिया  करता  हूँ  और  नेत्रहीन  बच्चों  के  लिए  उनके  द्वारा  किये  जा  रहे  सामाजिक  कार्य  के  लिए  शुभकामनाएं  देता  हूँ .
इसके  आलावा  भी  बहुत  से  लोग  समय -समय  पर  अपनी  कहानियों  और  लेखों  से  AKC पर  अपना  बहुमूल्य  योगदान  देते  रहते  हैं , उन  सभी  का  ह्रदय  से  आभार … विशेष  तौर  पर  मैं  Kiran SahuDr. ManojDilip Ji , Rajni Sadana JiVijaya Sati jiShikha MishraDr Partitosh Trivedi और  Pritam Kant जी  को  thanks कहना  चाहूंगा . Thank You All.
Thanks to Mr. Mukesh Pachauri, मुकेश जी , अच्छीखबर की कहानियों को अपनी प्रभावशाली आवाज़ में Youtube पर रिकॉर्ड कर रहे हैं।  आपका  बहुत बहुत धन्यवाद।
Thanks to my friend Sidharth and Sameer for liking and promoting AKC . Thanks to Kuldeep for encouraging me to sell Ebooks .
Thanks to thousands of Facebook FansGoogle Plus Followers and Email Subscribers.
And last but not the least a Million thanks to all the readers of AKC. आपके  encouraging comments, word of mouth publicity और  best wishes के  बिना  मैं  आज जो स्टेप ले रहा हूँ  वो नहीं ले पाता ….thanks a lot 🙂.
 Friends, आज  से  लगभग  2 साल  पहले  मैंने  एक  article लिखा  था  “जेल से निकलना है तो सुरंग बनाइये !
जिसमे  मैंने  बेमन  की  जॉब  या  बिज़नेस, जिसे मैंने एक जेल से equate किया था ; से  निकलकर  अपने  मन  का  काम  करने  का रास्ता बताया था … लगभग 5 साल की मेहनत के बाद आज मेरी सुरंग तैयार है …. finally वो दिन आ ही गया जब मैं अपनी जेल से फरार हो जाऊँगा ….अपनी नयी दुनिया में , आज़ाद , अपने दिल के काम के साथ … खुशियाँ बटोरते …खुशियाँ लुटाते …
Thank You 🙂

No comments:

Post a Comment